शिक्षा राज्य मंत्री एवं उच्च राज्य शिक्षा मंत्री की अगुआई में पौधारोपण की हुई पहल

जयपुर। शिक्षा राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने पर्यावरण संरक्षण के लिए वृहद स्तर पर अभियान चलाए जाने पर जोर देते हुए हरेक को एक पेड़ लगाने और हरे भरे राजस्थान के लिए मिलकर कार्य करने का आह्वान किया है। उन्होंने शिक्षा अधिकारियों और कर्मचारियों को यह संकल्प लेने पर भी जोर दिया कि सभी एकएक पेड़ लगाएं और बाद में उसकी सार संभाल भी करें। उन्होंने पर्यावरण संरक्षण के लिए शिक्षा संकुल स्थित विभाग के दो हजार कर्मचारी-अधिकारियों द्वारा एक-एक पेड़ गोद लेकर उसका संरक्षण करने के अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि पदोन्नति, स्थानान्तरण पर अधिकारी-कर्मचारी अपने गोद लिए वृक्ष की सार संभाल का जिम्मा अपने स्थान पर आने वाले को देकर जाएं। इससे प्रकृति संरक्षण की सोच को सही मायने में साकार किया जा सकेगा। डोटासरा बुधवार को यहां शिक्षा संकुल परिसर में वृक्ष मित्र अभियान, हरा-भरा मेरा राजस्थान कार्यक्रम में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने स्वयं परिसर में पौधारोपण भी किया। उन्होंने कहा कि पेड़ जीवन पर्यंत मनुष्य की सहायता करता है , उनसे यह सीख लेनी चाहिए कि हम भी पेड़ लगाएं और उनका जीवनभर नई पीढ़ी के लिये संरक्षण भी करें। उन्होंने कहा कि पर्यावरण प्रेम के लिए विद्र्याथियों में चेतना जगाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि यह पेड़ ही हैं जो जीवन मूल्यों की शिक्षा देते हैं। जिस पेड पर जितने फल होते हैं, वह उतना ही झुका होता है। जीवन में भी विनम्रता से ही आगे बढ़ा जा सकता है। उन्होंने आह्वान किया कि शिक्षा संकुल में इतने पेड़ लगे कि यहां की हरियाली देखने दूर दूर से लोग आए। इस मौके पर उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने कहा कि वृक्षारोपण अभियान को जन जन तक पहुंचाने की जरूरत है। उन्होंने प्रदूषण रोके जाने के लिये अधिकाधिक पेड़ लगाए जाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के हर महाविद्यालय, स्कूल में विद्र्याथियों को प्रेरित कर वृक्षारोपण अभियान को गति दी जाएगी। उन्होंने शैक्षिक संस्थानों के मुखियाओं को पेड़ लगाने के साथ ही उनकी देखभाल का भी जिम्मा लेने का आह्वान किया। भाटी ने कहा कि वृक्ष संरक्षण की हमारे यहां सदियों से परंपरा रही है। उन्होंने खेजडली में अमृता देवी द्वारा पेड़ों के लिए दिए बलिदान को याद रखते हुए वृक्ष मित्र अभियान को आगे बढाए जाने पर जोर दिया। हरिदेव जोशी पत्रकारिता एवम जनसंचार विश्वविद्यालय के कुलपति श्री ओम थानवी ने कहा कि पेड़ कम से कम कटे , इसके लिए कागज का उपयोग कम से कम हो। उन्होंने साहित्यकार अज्ञेय का स्मरण करते हुए कहा कि कम लिखें और जब तक जरूरी नहीं हो न लिखें और कागज का इस्तेमाल नही हो। उन्होंने फूलों को भी तोड़े जाने की प्रवृति रोके जाने पर जोर दिया और पर्यावरण संरक्षण का आह्वान किया। कॉलेज शिक्षा एवं राजस्थान स्कूल शिक्षा आयुक्त प्रदीप कुमार बोरड ने कहा कि मानसून में हर स्कूल , कॉलेज में नए प्रवेश होने वालों विद्र्याथियों के अनुपात में पेड़ लगाए जाएंगे। समग्र शिक्षा के राज्य परियोजना आयुक्त एन. के . गुप्ता ने पूर्व में सभी का स्वागत करते पर्यावण सरंक्षण के लिए सभी को योगदान देने का आह्वान किया। इससे पहले शिक्षा संकुल स्थित अधिकारियों कर्मचारियों ने पेड़ लगाने और उनके संरक्षण की प्रतिबद्धता जताई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *