बाल अधिकारों का हर स्तर पर संरक्षण सुनिश्चत किया जायेेगा-बेनीवाल

सर्किट हाउस में की जनसुनवाई, संप्रेक्षण एवं बाल गृह का किया निरीक्षण

जयपुर, 24 नम्वबर (का.सं.)। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने कहा कि प्रदेश में बाल अधिकारों का हर स्तर पर संरक्षण किया जायेगा। इसके लिये हरसंभव उपाय किये जायेंगे। बाल अधिकारों के लिये आयोग तथा सरकार गंभीर है। बाल अधिकारों के हित में आड़े आने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों को बख्शा नहीं जायेगा।
आयोग अध्यक्ष बेनीवाल ने रविवार प्रात: सर्किट हाउस में जनसुनवाई करते हुए कहा कि बाल श्रम की रोकथाम तथा बालकों को उत्पीडऩ से मुक्त कराने के लिये संवैधानिक प्रावधानों को कड़ाई से लागू करवाया जायेगा। बालकों को राज्य सरकार द्वारा उपलब्ध कराई जाने वाली सभी सुविधाओं तथा उनके अधिकारों की प्रदायगी भी सुनिश्चित की जायेगी। मुख्यमंत्री स्वयं इस पर निगरानी रखे हुए हैं। उन्होंने कहा कि बालकों के उत्पीडऩ की शिकायतों में वृद्धि हुई है। वह स्वयं राज्य के सभी जिलों का दौरा कर वस्तुस्थिति से अवगत हो रही हैं। समस्याओं का गहराई से अध्ययन के लिये प्रत्येक जिले में व्यक्तिगत रुप से जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित किये जा रहे हैं। बाल अधिकारों के प्रति लोगों को सजग करने के लिये शिक्षा तथा अभिभावकों के लिये जागरुकता कार्यक्रम भी आयेाजित किये जायेंगे।
बाल विवाहों की रोकथाम के लिये विजन डाक्यूमेंट तैयार किया जा रहा है तथा ऐसी व्यवस्था की जायेगी कि आखातीज के अलावा भी साल भर बाल विवाहों की रोकथाम हो सके। पुलिस थानों में बाल डेस्क की स्थापना हो तथा पुलिस चाइल्ड फ्रेण्डली बनें। आयोग अध्यक्ष ने कहा कि 10 से 19 वर्ष आयुवर्ग के बच्चों में कुपोषण रोकने के लिये महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ काम किया जायेगा। बच्चों को दागने की घटनाओं पर लगाम लगाने एवं उत्पीडऩ रोकने पर सरकार की ओर से कोई कमी नहीं रखी जाएगी। कमी है तो सिर्फ लोगों में जागरुकता की। इसके लिये भी विशेष प्रयास किये जायेंगे तथा टीमें गठित की जाएगी जो नियमित रुप से जानकारी प्रदान करती रहे। बाल श्रम की सूचना मिलने पर होटलो, ढाबों के अलावा घरों एवं हर स्थान पर कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने सर्किट हाउस में एक-एक कर सभी मामलों की सुनवाई की तथा उनके शीघ्र निराकरण को आश्वस्त किया।
सम्प्रेक्षण एवं बालगृह का किया निरीक्षण:- बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने पालड़ी स्थित राजकीय सम्प्रेक्षण एवं बाल गृह का निरीक्षण किया। उन्होंने महिला एवं बाल अधिकारिता विभाग के अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि यहां रहने वाले बालकों की शिक्षा, सुरक्षा, पोष्टिक आहार तथा कौशल विकास की दिशा में कार्य किया जाना चाहिये। उन्होंने सम्प्रेक्षण एवं बाल गृह में उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं का निरीक्षण किया तथा उन पर संतोष प्रकट किया। उन्होंने कहा कि बालकों की काउंसलिंग तथा मोटिवेशन के लिये भी नियमित व्यवस्था करें। उन्होंने बाल गृह में बच्चों द्वारा रखी जा रही साफ-सफाई तथा किचन गार्डन की भी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा का बालगृह एवं सम्प्रेक्षण गृह अच्छे से संचालित किये जा रहा है। बाल अधिकार संरक्षण आयोग अध्यक्ष के निरीक्षण कि समय बाल चेतना समिति की अध्यक्ष डॉ. सुमन त्रिवेदी, सीमा त्रिवेदी, नरेश पारीक, आशा रामावत, डॉ. राजेश छापरवाल, महिला एवं बाल अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक धर्मराज प्रतिहार, सुरेश भट्ट भी उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *