बेरिकेट्स पर झंडे लगाने पर पुलिस से भिड़े प्रदर्शनकारी

शाहजहांपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन : योगेन्द्र यादव के समझाने पर माने

अलवर (निसं.)। शाहजहांपुर बॉर्डर कृषि कानूनों का विरोध कर रहे एसएफआई कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच मंगलवार को झड़प हो गई। यह झड़प कार्यकर्ताओं द्वारा बेरिकेट्स पर झंडे लगाने पर हुई थी। इसके बाद सामाजिक कार्यकर्ता योगेन्द्र यादव समेत किसानों ने एसएफआई के कार्यकर्ताओं को शांत कराया। इसके पहले भी यहां पुलिस और किसानों के बीच तनाव देखने को मिला था।असल में हरियाणा बॉर्डर पर किसान आंदोलन के बीच काफी संख्या में एसएफआई के कार्यकर्ता हाथों में झण्डे लेकर पहुंचे थे। इनमें से कुछ कार्यकर्ता झंडों को हरियाणा पुलिस की ओर से हाईवे पर लगाए हुए बेरिकेट्स पर लगाने की कोशिश की तो पुलिस ने रोका। उनके रोकने पर भी कुछ कार्यकर्ता नहीं माने। इस बीच पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच नोंक-झोंक हो गई। लेकिन, बीच बचाव करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता योगेन्द्र यादव व कुछ किसान मौके पर आ गए। उन्होंने कार्यकर्ताओं को मनाया। योगेन्द्र यादव व रामपाल जाट पहले ही कह चुके हैं कि किसानों का आंदोलन पूरी तरह से शांतिपूर्वक चलेगा। किसी भी तरह की जबर्दस्ती नहीं की जाएगी। हरियाणा पुलिस उनको आगे नहीं जाने दे रही। फिर भी किसान बॉर्डर पर सड़क के बीच में खुले आसमान तले दिन-रात पड़े हुए हैं। यहां सब गांधीवाद अपनाए हुए हैं। यहां किसानों का कहना है कि उपवास करके आंदोलन को ताकत देने का काम कर रहे हैं। किसी तरह की हिंसा नहीं चाहते हैं। जबकि, हरियाणा पुलिस दिल्ली जाने वाले किसानों को रोक रही है। कोरोना महामारी के कारण धारा 144 का हवाला दे रही है। योगेन्द्र यादव ने कहा कि हरियाणा सरकार के नेताओं के बड़े-बड़े कार्यक्रम होते रहे हैं।  अब किसान दिल्ली जाने लगे तो धारा 144 लगे होने का हवाला देकर रोकने में लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *