रेलवे सीनियर सैक्शन इंजीनियर को गिरफ्तार कर जोधपुर ले गए सी.बी.आई. अधिकारी

अनूपगढ़ , 29 सितम्बर (एजेन्सी)। शनिवार की रात्रि को सी.बी.आई.जोधपुर की टीम ने क्षेत्र के गांव 75 जी.बी. में रेलवे विभाग के सीनियर सैक्शन इंजीनियर रामहरी मीणा को 25 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। यह कार्रवाई आज रविवार सुबह लगभग 8 बजे तक चलती रही तथा कार्रवाई पूरी करने के बाद सी.बी.आई. की टीम रिश्वत के आरोपी इंजीनियर मीणा को गिरफ्तार करके जोधपुर ले गई। सूरतगढ़ में कार्यरत रेलवे विभाग के सीनियर सैक्शन इंजीनियर मीणा ने एक किसान से रेलवे ट्रैक के नीचे से सिचाई पानी की पाइप लाइन की क्रॉसिग करने के एवज में रिश्वत मांगी थी, जिस पर उसने इसकी शिकायत जोधपुर सी.बी.आई. कार्यालय में की थी। शिकायत का सत्यापन होने पर रेलवे इंजीनियर को ट्रेप कर लिया गया।मिली जानकारी के अनुसार 75 जी.बी. निवासी रणवीर सिह की जमीन रेलवे ट्रैक के दोनों तरफ पड़ती है, जमीन के दोनों तरफ सिचाई पानी पहुंचाने के लिए रेल लाइन के नीचे से पाइप डालनी थी। इसके लिए किसान सेखों ने रेलवे विभाग की निर्धारित फीस भर दी थी। रणवीर सिह ने बताया कि रेलवे की निर्धारित फीस भरने के बावजूद सूरतगढ़ रेलवे विभाग के सीनियर सैक्शन इंजीनियर रेल पथ पी द्वारा पाइप डालने की मंजूरी देने की एवज में बार-बार परेशान किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि उक्त इंजीनियर द्वारा पिछले 3 माह से उसे अलग-अलग लोकेशन पर बुलाकर रिश्वत की मांग की जा रही थी। 3 माह पहले इस कार्य के लिए उनसे 50 हजार रुपए रिश्वत की मांग की गई थी, लेकिन बार-बार सम्पर्क होने पर 25 सितम्बर को उक्त इंजीनियर ने उससे 28 हजार रुपए रिश्वत की मांग की तथा 25 हजार में वह मंजूरी देने के लिए मान गया। जिस पर सेखों ने इंजीनियर की शिकायत के लिए जोधपुर सी.बी.आई. से सम्पर्क किया। जोधपुर की सी.बी.आई. टीम ने किसान रणवीर सेखों की शिकायत का सत्यापन होने पर एक टीम बनाकर जाल बिछाया तथा रंग लगे 25 हजार रुपए के नोट देकर रणवीर सिह को मौके पर भेजा। जानकारी के अनुसार सी.बी.आई.की टीम के कुछ सदस्य शुरू से ही मौके पर नजर रखे हुए थे। जब रामहरी मीणा ने किसान रणवीर सेखों से नोट लिए तो मौके पर मौजूद सी.बी.आई.की टीम के सदस्यों ने अपनी पूरी टीम को इशारा कर दिया। इशारा पाते ही सी.बी.आई. की टीम ने रेलवे विभाग के सीनियर सैक्शन इंजीनियर रेल पथ पी-वेद रामहरी मीणा को नोटों सहित धर दबोचा तथा कैमिकल से उसके हाथ धुलवाए। हाथ धुलवाते ही नोटों पर लगा गुलाबी रंग मीणा के हाथों पर नजर आ गया। जिस पर सी.बी.आई.की टीम ने मौके पर ही इंजीनियर मीणा को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद सी.बी.आई. टीम इंजीनियर और परिवादी किसान को लेकर अनूपगढ़ रेलवे स्टेशन पर पहुंची, जहां इंजीनियर से पूछताछ की गई। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त इंजीनियर के साथ रेलवे विभाग के अन्य अधिकारी भी शामिल हो सकते हैं। मिली जानकारी के अनुसार सीनियर सैक्शन इंजीनियर राम हरी मीणा रेल पथ पिछले डेढ़ साल से सूरतगढ़ में कार्यरत थे। अर्जनसर में रेल हादसे के बाद सम्बंधित अधिकारी से चार्ज लेकर रामहरी मीणा को चार्ज दिया गया था। सी.बी.आई. इस मामले में सबूत जुटाने का प्रयास कर रही है कि इंजीनियर मीणा के अलावा विभाग के अन्य कौन-कौन अधिकारी शामिल हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *