तेल के दाम बढऩे से खाना-पीना महंगा, आपकी ईएमआई पर भी असर डालेगी महंगाई

नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से मैन्युफैक्चरिंग लागत बढ़ी तो थोक महंगाई दर रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गई। थोक महंगाई दर 12.94त्न पर पहुंच गई है। यह मई 2020 में -3.37त्न रही थी। वहीं, खुदरा महंगाई दर 6.26 फीसद पर है और यह मई की तुलना में जून में थोड़ी राहत दी है। यह मई में 6.3त्न और अप्रैल में 4.23त्नपर थी।पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढऩे से महंगाई ज्यादा बढ़ी है। खाने-पीने के सामान भी मई में 5.01त्न महंगे हुए हैं। ये दर अप्रैल में 2.02त्न थी। इनमें प्रमुख रूप से खाद्य तेल, फल, अंडे, मांस-मछली, सब्जियां और घी का अधिक योगदान है। इसके अलावा मसालों, चीनी और दाल भी महंगे हुए हैं। सबसे ज्यादा महंगा तेल और घी हुए हैं। ये महीनेभर में करीब 31त्न उछले हैं। अंडे और सॉफ्ट ड्रिंक्स की कीमतें 15-15त्न बढ़ी है।केंद्र सरकार ने रिजर्व बैंक को 2 फीसद के घट-बढ़ के साथ खुदरा मुद्रास्फीति 4 फीसद पर रखने की जिम्मेदारी दी है, लेकिन कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स आधारित रिटेल महंगाई दर का आंकड़ा रिजर्व बैंक के दायरे से भी बाहर निकल गया है। यह 2-6त्न के बीच है। इससे पहले लगातार 5 महीने से खुदरा महंगाई दर इसी दायरे में रही थी। बैंक नीतिगत दरें तय करते समय खुदरा महंगाई को ध्यान में रखता है। यह दर ज्यादा होगी तो आपकी ईएमआई कम नहीं होगी। देश के पूर्व सांख्यिकीविद् प्रणब सेन ने बताया कि मई में कोरोना की दूसरी लहर पीक पर थी और ग्रामीण इलाकों में ज्यादा असर देखने को मिला। इससे वहां सप्लाई नेटवर्क बुरी तरह प्रभावित हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *