इण्डिया इन्फ्रास्ट्रक्चर समिट का राज्य संस्करण जयपुर में आयोजित

 

जयपुर, 20 सितम्बर (एजेन्सी)। इण्डिया इन्फ्रास्ट्रक्चर समिट (आईआईएस) के राज्य संस्करण का उद्घाटन जयपुर में किया गया। यह आयोजन आईटीसी राजपुताना में किया गया। इण्डिया इन्फ्रास्ट्रक्चर समिट का उद्घाटन आज यहां उदय लाल अंजाना, मिनिस्टर ऑफ को -ऑपरेशन इंदिरा गांधी नहर परियोजना विभाग, राजस्थान सरकार ने किया। इस आयोजन की थीम ‘एक्ज्युटेबल इंटेलिजेंस’ रखी गई जो उन सभी आदर्शों के लिए है जो हमारे देश की बहु-विविधता संस्कृति के ढांचे और आबादी की भलाई को ध्यान में रखते हुए निष्पादित किए जा सकते हैं। जयपुर में इण्डिया इन्फ्रास्ट्रक्चर समिट के राज्य संस्करण में अन्य हितधारकों के अलावा शिक्षाविदों और सरकार के सदस्यों ने भाग लिया, जिनमें से सभी ने विभिन्न विषयों पर अपने प्रकट कियेे। इस अवसर पर एसोसिएशन ऑॅफ इन्फ्रास्ट्रक्चर इण्डस्ट्री (इण्डिया) के महानिदेशक रजनीश दासगुप्ता ने कहा ” देश की छवि बनाने में राजस्थान का योगदान काफी महत्वपूूर्ण है, क्यों कि यहां की संस्कृति और विरासत काफी सुदृढ़ है, इसलिए राज्य के लिए यह काफी महत्वपूर्ण हो जाता है कि वह प्रदेश की विरासत को ध्यान में रखते हुए अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर को और उन्नत करे। राजस्थान में इन्फ्रास्ट्रक्चर बहुत कुछ नए विचारों और नवाचारों पर निर्भर है, जो केवल तभी हो सकता है जब सभी हितधारक एक साथ आने के लिए स्थायी और स्केलेबल एक्ज्युटेबल इंटेलिजेंस प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर समिट उन सभी को एक साथ लाने और देश में इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए विचार साझा करने, बहस और समाधान को प्रोत्साहित करने के लिए एक लीडरशिप प्लेटफॉर्म है।” इस मौके पर जेके सीमेन्ट लिमिटेड के प्रेसिडेन्ट – मार्केटिंग पुष्पराज सिंह ने भी विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा ” जेके सीमेंट लिमिटेड देश के इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास में अपने योगदान के लिए अग्रणी रहा है और इसने कई ऐतिहासिक परियोजनाओं में भागीदारी की है। राजस्थान के साथ जेके सीमेंट का बंधन बहुत ही खास और मजबूत है क्योंकि कम्पनी ने 1975 में निम्बाहेड़ा में अपने पहले ग्रे सीमेंट प्लांट के साथ अपना परिचालन शुरू किया था । और हमारा दृढ़ता के साथ मानना है कि राजस्थान में आने वाले वर्षों में विकास की बहुत बड़ी संभावना है जो राष्ट्र के लिए बैंचमार्क स्थापित करेगा। एक जिम्मेदार भागीदार के रूप में, हमने निम्बाहेड़ा और मांगरोल में अपने दोनों संयंत्रों में अपने उत्पादन को बढ़ाकर निवेश किया है, जिससे आवास और इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए आपूर्ति का निर्बाध एकीकरण हुआ है जो प्रदेश वासियों के उत्थान में सक्षम होगा।” पुष्पराज सिंह का कहना था कि ”एसोसिएशन ऑफ इन्फ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री (इण्डिया) के साथ भागीदारी करते हुए, हमने राजस्थान के विकास में प्राथमिक खिलाड़ी होने के लिए अपनी दृष्टि को आगे बढ़ाया है और राज्य में लोगों के लाभ के लिए ‘एक्ज्युटेबल इंटेलिजेंस’ की अवधारणा का विस्तार किया है।”वक्ताओं ने सामुदायिक प्रणाली के निर्माण के बारे में भी चर्चा की। प्रदेश में गतिशीलता, आवास, रोजगार के अवसर, शिक्षा और कल्याण जैसे मसलों को प्रत्येक व्यक्ति के संतोष के लिए एक एकीकृत तरीके से डिजाइन किया गया है। उन्होंने चर्चा की कि सह-मौजूदा की अवधारणा में सुनियोजित बदलाव होने पर इसे कैसे सक्षम किया जा सकता है। स्मार्ट सिटीज के बारे में एक दिलचस्प चर्चा सत्र का आयोजन भी इस अवसर पर किया गया। इस कार्यक्रम में इस विषय पर भी चर्चा हुई कि सरकार और मंत्रालय इस कदम को प्रोत्साहित करने के लिए इन्फ्रास्ट्रक्चर में साझा संसाधनों के उपयोग को प्रोत्साहित करने में समुदायों के साथ मिलकर कैसे काम कर सकते हैं। इण्डिया का इन्फ्रास्ट्रक्चर एक ऊंची छलांग लेने के लिए तैयार है और इन्फ्रास्ट्रक्चर की बढ़ोतरी के लिए भारी निवेश की जरूरत है। यह आयोजन इस दिशा में हितधारकों को जुटाने का एक प्रयास है। बदलते समय और परिदृश्य के साथ संयोजन करते हुए अधिक प्रासंगिक विषयों को पेश करना भी एसोसिएशन ऑफ इन्फ्रास्ट्रक्चर इंडस्ट्री (इंडिया) का उद्देश्य है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *