कोरोनावायरस संक्रमित होने पर जरूरी नहीं कि आपको बुखार हो

आजकल हल्का सा भी बुखार हमें चिंता में डाल देता है। आखिर कोविड-19 का प्रमुख लक्षण बुखार ही तो है, लेकिन हमारी यह जानकारी अधूरी है, बताते हैं अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के शोधकर्ता।एम्स की एक नवीन रिसर्च में पाया गया कि कोविड-19 के सभी मरीज़ों को बुखार नहीं आता।एक स्टडी में पाया गया कि कोरोनावायरस से संक्रमित केवल 17 प्रतिशत मरीज़ों को ही बुखार आ रहा था। यह स्टडी एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती 144 कोविड-19 मरीज़ों पर की गई थी। इस स्टडी के परिणाम इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में प्रकाशित किए गए हैं।स्टडी में पाया गया,भारत के आंकड़ों को देखा जाए तो बुखार केवल 17त्न मरीजों को आया है। जबकि चीन में यह आंकड़ा 44त्न है। भारत मे 88त्न मरीज़ों को अस्पताल में भर्ती होने के बाद बुखार आया है।शोधार्थियों ने कहा,बुखार को कोविड-19 का प्रमुख लक्षण के रूप में इतना ज्यादा प्रचारित किया गया है कि बहुत से केस बुखार न होने के कारण मिस हो रहे हैं।स्टडी के अनुसार 44.4त्न लोगों में कोई लक्षण नहीं थे, और जिन मरीजों में लक्षण थे उनमें से 34.7त्न को खांसी, 17.4त्न को बुखार और 2त्न को सांस लेने में तकलीफ हुई है।
स्मोकिंग से कोविड-19 का कोई सम्बन्ध नहीं
मार्च से अप्रैल के बीच हुई एक रिसर्च में यह रोचक जानकारी मिली है कि उम्र, जेंडर और स्मोकिंग हैबिट का कोविड-19 से कोई सम्बन्ध नहीं है। स्मोक करने वाले मरीजों में नॉन स्मोकर्स के मुकाबले कोई गम्भीर अंतर नही पाया गया। हालांकि चैन स्मोकिंग का स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव पड़ता है, जो कोविड-19 से रिकवरी को इफ़ेक्ट कर सकता है।
ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल- अधिकतर केसेस में मरीज सपोर्टिव ट्रीटमेंट से ही ठीक हो रहे हैं। लगभग 48.5त्न एंटीन्हिस्टामिन और विटामिन सी से स्वस्थ हुए हैं। 20.8त्न पेरासिटामोल से और 18.7त्न को ॥ष्टक्त दवा दी गयी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *