आखिरकार सरकार का संदेश लेकर भंवर जितेंद्र सिंह और टीकाराम जूली ने डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा का धरना कराया समाप्त

अलवर। अलवर शहर में राज ऋषि कॉलेज के छात्र संघ चुनाव की मतगणना में धांधली के बाद पुनर मतगणना की मांग कर रहे छात्रों व पूर्व फौजी पर लाठीचार्ज करने के मामले में आज अलवर के रूपवास में राज्य सभा सांसद डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने आज शाम को राजस्थान सरकार के मंत्री टीकाराम जूली व पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह के आश्वासन के बाद धरना समाप्त करने की घोषणा की। आज धरने का दूसरा दिन था शुक्रवार को राज्यसभा सांसद ने धरना शुरू किया था तीन दौर की वार्ता विफल होने के बाद यह धरना आज शनिवार को दोपहर तक चला। इसके बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह वह राजस्थान सरकार के मंत्री टीकाराम जूली धरना स्थल पर पहुंचे और राज्यसभा सांसद से इस संबंध में वार्ता की। वार्ता के दौरान भंवर जितेंद्र सिंह ने उन्हें आश्वासन दिया और कहा कि उनकी वाजिब मांगें मान ली जाएंगी और सरकार इस पर शीघ्र ही कार्रवाई करेगी यही आश्वासन मंत्री टीकाराम जूली ने दिया। इसके बाद वहां दोपहर बाद धरना समाप्ति की घोषणा की गई ।धरना समाप्ति की घोषणा के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री भंवर जितेंद्र सिंह ने कहा कि जिस भी अधिकारी और नेता ने लाठीचार्ज जैसी घटना की है उन पर कार्रवाई होनी चाहिए और जनता के सामने भी एक सबक जाना चाहिए कि जनता को नाजायज परेशान और इस तरह की की कार्रवाई से बचना चाहिए। राज्य सभा सांसद की अलवर के किसानों के अनुसार दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस हाईवे में मुआवजा दिल्ली और हरियाणा सरकार के अनुसार दिया जाना चाहिए उनकी यह बाजीव मांग है और किसानों के हित की बात है ।इसमें केंद्र सरकार और राजस्थान सरकार को मुआवजा बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जनता के हित की बात के लिए वह किसी पार्टी की बात नहीं देखते और दलगत राजनीति से दूर जनता के हित की लड़ाई लड़ते हैं। इधर राजस्थान सरकार के मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि ऐसी कार्रवाई का निंदनीय है और इस संबंध में कोतवाल को निलंबित किया जा चुका है और वर्दी का गलत उपयोग नहीं करना चाहिए और जो करेगा वह भरेगा। इस मौके पर भंवर जितेंद्र सिंह ने आश्वासन दिया की पीड़ित फौजी और अन्य लोग संबंधित थाने में मुकदमा दर्ज कराएं। मुकदमा दर्ज होगा और मुआवजे के लिए राजस्थान सरकार से वार्ता की जा रही है और राज्य सभा सांसद दिल्ली में भी इस मांग को उठाएं हैं। राज ऋषि कॉलेज के प्रिंसिपल के तबादले पर उन्होंने कहा कि ट्रांसफर लिस्ट की पहली सूची में ही राज ऋषि कॉलेज के प्रिंसिपल का तबादला हो जाएगा इधर अतिरिक्त जिला कलेक्टर प्रथम रामचरण शर्मा ने बताया कि राजसभा सांसद से उनकी मांगों पर बात की है और सभी चारे मांगों को राजस्थान सरकार के पास पहुंचा दिए हैं जो इनकी मांगे हैं जो जिला स्तर पर उनका निवारण नहीं हो सकता। उन्होंने बताया कि किसानों के मुआवजे में अलवर के अंदर जो डीएलसी रेट है उसी के अनुसार नीतिगत फैसले होते हैं और वही राज सरकार इस संबंध में निर्णय ले सकती है। जिला प्रशासन इस संबंध में कोई निर्णय नहीं ले सकता। थानेदार की गिरफ्तारी के सवाल पर उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का रूल्स है कि किसी भी अधिकारी को बिना जांच के गिरफ्तार नहीं किया जाए उसका विधिक परीक्षण कराया जा रहा है । पुनर मतगणना के सवाल पर भी उन्होंने बताया कि मतगणना के बाद घोषणा के लिए कमेटी बनी होती है अगर किसी को भी आपत्ति होती है तो वह कोर्ट में जाकर पुनर्मतगणना की मांग कर सकता है। इधर आज सुबह से ही रूपबास में राज्य सभा सांसद डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा के नेतृत्व में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता और समाज के प्रतिनिधियों का जमावड़ा रहा और धरना चलता रहा ।भारी पुलिस बल तैनात किया गया था। धरना समाप्ति के बाद पुलिस और जिला प्रशासन ने राहत की सांस ली है । इधर धरना स्थल पर मीणा समाज की महिलाओं व अन्य लोगों द्वारा रागनी चलती रही। खुद डॉ किरो लाल मीणा भी डांस करते रहे। अन्य भजन गाते रहे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *