इंदिरा नहर में कूदा युवक दो किमी तक तैरता रहा

The man jumped in the Indira Canal
पुलिस सेना और आम लोगों ने बचाया

श्रीगंगानगर, 6 नम्वबर (का.सं.)। राजियासर थाना क्षेत्र में इंदिरा गांधी नहर में दोपहर एक युवक ने छलांग लगा दी। श्रीगंगानगर-बीकानेर नेशनल हाईवे 62 पर बिरधवाल में इंदिरा गांधी नहर (आरडी 236) पर बने पुल व पुलिस चौकी के दूसरी तरफ किनारे से इस युवक को छलांग लगाते हुए वहां नहर में मछलियां पकड़ रहे एक बिहारी युवक ने देख लिया। बिहारी युवक के शोर मचा देने पर चौकी से पुलिसकर्मी और नजदीक होटलों पर मौजूद लोग दौड़कर आए। इसी बीच नहर में छलांग लगा देने वाला युवक पानी के तेज बहाव में बहने लगा। पुलिस के अनुसार दोपहर 2:30 बजे हुई इस घटना से हड़कंप मच गया। काफी संख्या में लोग नहर के दोनों तरफ पानी में तैरते जा रहे युवक को बचाने का प्रयास करने लगे। छलांग लगा देने वाला युवक थोड़ा-बहुत तैरना जानता था। एक युवक के नहर में कूद जाने का पता चलने पर पुलिस चौकी प्रभारी सहायक उप निरीक्षक जयकुमार भादू और सिपाही संजय जो कि किसी काम से कहीं और गए हुए थे, उसी समय अपनी निजी कार से घटनास्थल को रवाना हो गए। उन्होंने पुलिस चौकी से युवक को बचाने के लिए रस्से भी अपनी गाड़ी में रख लिए। इस बीच युवक नहर में हाथ पांव मारते हुए पानी के साथ आगे बिरधवाल हैड की तरफ बहता रहा। पुलिस ने हेड के समीप होटल वालों को सचेत कर दिया। हैड के समीप सेना की फील्ड रेंज है। पता चलने पर सैनिक भी राहत व बचाव कार्य के लिए रस्से लेकर दौड़े आए। पुलिस ने बताया कि हैड से लगभग 300 मीटर पीछे इस युवक को बचाने के लिए सिपाही संजय और भीड़ में मौजूद एक युवक ने नहर में छलांग लगा दी। कुशल तैराक होने की वजह से संजय और इस युवक ने डूब रहे युवक को पकड़ लिया। उसके पांव में रस्सा बांध दिया और खींच कर बाहर निकाल लिया। बाहर निकाले जाने पर युवक पूरी तरह से होश में था। थोड़ा बहुत तैरना जाने के कारण युवक की जान बच गई। पूछताछ करने पर पता चला कि यह युवक नीतूसिंह जट सिख(32) हनुमानगढ़ जिले में पीलीबंगा कस्बे के समीप पीलीबंगा गांव का निवासी है। उसे आपातकाल सेवा 108 की एंबुलेंस से सूरतगढ़ सरकारी हस्पताल के ट्रॉमा सेंटर के लिए भेज दिया गया। पुलिस ने बताया कि नीतूसिंह कथित रूप से नशेड़ी है। नशे की लत से परेशान होकर वह नहर में कूद गया। सिपाही संजय और एक आम युवक ने अपनी जान को जोखिम में डालकर इस युवक की जान बचा ली। उपस्थित लोगों ने इन दोनों के साहस की प्रशंसा की। उल्लेखनीय है कि हाईवे पर पुलिस चौकी के समीप पुल के आसपास अक्सर लोग आत्महत्या करने के लिए नहर में कूद जाते हैं। ऐसे लोगों को बचाने के लिए पुलिस चौकी में नियुक्त किया गया ज्यादातर स्टाफ कुशल तैराक है। चौकी में राहत और बचाव के सामान का भी इंतजाम किया हुआ है। पहले भी यहां ऐसे कई लोगों की जानें बचाई गई हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *