पुस्तक विक्रेता ब्लैकमेलिंग प्रकरण में दो मुलजिम गिरफ्तार

अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेजा

श्रीगंगानगर, 24 अक्टूबर (का.सं.)। पुस्तक विक्रेता की कथित रूप से अश्लील वीडियो और फोटो खींचकर समलैंगिक संबंधों के मुकदमे में फंसा देने की धमकी देकर ब्लैकमेल किए जाने के बहुचर्चित मामले में पुलिस ने दो नामजद मुलजिमों को गिरफ्तार कर लिया है। पुरानी आबादी थाना पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए युवकों में मियां की ढाणी निवासी मुस्तफा और सेतिया कॉलोनी निवासी गौरव मेघवाल को आज दोपहर बाद न्यायालय में पेश किया गया। पुलिस ने दोनों का रिमांड मांगा। अदालत ने दोनों को न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश दिए। प्रकरण की जांच कर रहे सहायक उपनिरीक्षक सुभाष मीणा ने बताया कि इन दोनों मुलजिम से खाली चेक, हस्ताक्षर करवाए हुए खाली कागजात और सोने की अंगूठी बरामद कर ली गई है। पुस्तक विक्रेता राजेश अग्रवाल(47) से डरा धमका कर छीनी गई 60-62 हजार की राशि बरामद नहीं हुई है।इस राशि को मुस्तफा, गौरव तथा इनके एक अन्य साथी ने खर्च कर डाला। उन्होंने बताया कि इस प्रकरण में तीसरे युवक की पहचान कर ली गई है जो कि पुरानी आबादी का ही निवासी नरेंद्र उर्फ मोनू खटीक है। उसे पकडऩे के प्रयास किए जा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि स्थानीय रविंद्र पथ पर मटका चौक के समीप पुस्तक एवं स्टेशनरी विक्रेता राजेश अग्रवाल को विगत 15 अक्टूबर की रात्रि लगभग 9 बजे घर जाते समय पुरानी आबादी में उदाराम चौक के पास मुस्तफा एक खाली दुकान में ले गया। इन दोनों की पहले से आपस में जान पहचान थी। उस दिन दोपहर को मुस्तफा और राजेश अग्रवाल में मोबाइल पर बात हुई थी। मुस्तफा ने उसे रात को घर जाते समय उदाराम चौक में मिलने के लिए कहा था। दुकान में ले जाने पर मुस्तफा के दो और साथी आ गए। उन्होंने डरा धमका कर राजेश अग्रवाल की आपत्तिजनक वीडियो और फोटो खींच लिए, फिर उसे मुकदमे में फंसा देने की धमकी देने लगे। उस समय राजेश के पास दुकान की बिक्री के साथ 60-62 हजार रूपए थे, जो उन्होंने छीन लिए। यह युवक राजेश को उसी समय वापस उसकी दुकान पर लेकर आए।दुकान खुलवा कर खाली कागजातों और खाली चकों पर हस्ताक्षर करवा लिए ।साथ ही दुकान से काफी सामान भी उठा लिया। दुकान में लगे सीसी कैमरा में यह सब कुछ कैद हो गया। अगले दिन यह युवक राजेश अग्रवाल के पास दोबारा गए और 65 हजार कीमत का एप्पल का फोन किश्तों पर दिलाने का दबाव डालने लगे। इन लोगों की ब्लैकमेलिंग से परेशान हुए राजेश ने 17 अक्टूबर को मुस्तफा तथा गौरव को नामजद करते हुए मुकदमा दर्ज करवाया।अब इनके तीसरे साथी की भी पहचान कर ली गई है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *