कोरोना की वजह से हुये लॉक डाउन में बांट रहे जरुरतमंदो को दो वक्त का भोजन

मणिपाल हॉस्पिटल जयपुर ने की अनूठी पहल

जयपुर, 3 अप्रैल (एजेन्सी)। चिकित्साकर्मी जहाँ कोरोना से लडकर समाज को बचा रहे है जो की अपने आप में एक अतुलनीय कार्य है। इसी के साथ मणिपाल हॉस्पिटल जयपुर के चिकित्सक, कर्मचारी व नर्सिगं स्टाफ मिलकर लॉक डाउन के दिन से हि सुबह शाम दो वक्त का खाना जयपुर के जरुरत मंदों को बांट कर एक नई मिसाल पेष कर रहा है।लॉक डाउन के दिन से ही 500 पैकेट खाने के प्रतिदिन सुबह व सायं इन लोगों को बांट रहे है। इसके लिए हॉस्पिटल का समस्त स्टॉफ सहयोग कर रहा है। इस दौरान हम सभी निर्धारित सुरक्षा मानकों का पालन करके लोगों को जागरुक भी कर रहे है।इस बारें में बात करते हुये हॉस्पिटल डायरेक्टर श्री जी. कार्थिहेवेलन ने बताया की देश में अचानक से हुये इस 21 दिन के लॉक डाउन से जो लोग प्रतिदिन काम करके अपनी दो वक्त की रोटी कमाते थें उनके लिए इस समय रोजी रोटी का संकट खडा हो गया है। देष के एक जिम्मेदार हेल्थकेयर ग्रुप के नाते हमने यह प्रतिज्ञा की है कि लॉकडाउन के दौरान प्रतिदिन भोजन उपलब्ध करवाकर हमारा सामाजिक दायित्व निभायेगे।स्वास्थ्य सेवा में अग्रणी के रूप में, मणिपाल हॉस्पिटल भारत में सबसे बडे हॉस्पिटल नेटवर्क में से है, जो सालाना 2 मिलियन से अधिक रोगियों की सेवा करता है। इसका फोकस अपने पूरे मल्टीस्पेशलिटी डिलीवरी स्पेक्ट्रम के माध्यम से एक सस्ती टर्षरी केयर मल्टीस्पेशलिटी हेल्थकेयर फ्रेमवर्क विकसित करना है और इसे होमकेयर तक विस्तारित करना है। बैंगलोर, भारत में स्थित अपनी प्रमुख चतुष्कोणीय देखभाल सुविधा के साथ, 7 टर्षरी केयर देखभाल, 5 सेकण्ड्री केयर देखभाल और 2 प्रायमरी केयर क्लीनिक भारत और विदेशों में फैले हुए हैं, आज मणिपाल हॉस्पिटल सफलतापूर्वक संचालित होकर 15 हॉस्पिटलों में 5,900 बेड का प्रबंधन करते हैं। मणिपाल हॉस्पिटल दुनिया भर से रोगियों के लिए व्यापक उपचारात्मक और निवारक देखभाल प्रदान करता है। मणिपाल हॉस्पिटल्स का नाइजीरिया के लागोस में डे केयर क्लिनिक है। नैदानिक अनुसंधान गतिविधियों में नैतिक मानकों के लिए ।। मान्यता प्राप्त होने के लिए मणिपाल हॉस्पिटल भारत में पहले स्थान पर है। मणिपाल हॉस्पिटल भारत की सबसे सम्मानित हॉस्पिटल कंपनी है और उपभोक्ता सर्वेक्षण के द्वारा भारत में सबसे अधिक रोगीयों ने इस हॉस्पिटल की अनुषंसा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *