तकनीकी शिक्षण संस्थान संवेदनशीलता एवं जवाबदेही के साथ कार्य करें-डॉ. गर्ग

अभियांत्रिकी महाविद्यालयों की समीक्षा बैठक

जयपुर, 20 जून (का.सं.)। तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग की अध्यक्षता में गुरुवार को यहां तकनीकी शिक्षा भवन सभागार में राजकीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय समितियों की परिषद् की समीक्षात्मक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री ने निर्देश दिए कि सभी तकनीकी शिक्षण संस्थान संवेदनशीलता, पारदर्शिता एवं जवाबदेही के साथ आपसी समन्वय स्थापित कर परिणामपरक कार्यों को अंजाम दें। राज्य सरकार की मंशानुरूप प्रदेश तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में नए आयाम गढऩे के साथ ही मील का पत्थर साबित हो ताकि अभियांत्रिकी कुशल युवा सहज ही रोजगार व स्वरोजगार से जुड़ सकें।डॉ. गर्ग ने कहा कि सभी तकनीकी शिक्षण संस्थान सेमेस्टर वार समय सारणी सुनिश्चित करने के लिए एक वार्षिक कैलेण्डर तैयार करें। सभी राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज अपने-अपने क्षेत्रों में इंजीनियरिंग शिक्षित-प्रशिक्षित छात्र-छात्राओं को रोजगार प्लेसमेन्ट व स्वरोजगार से जुडऩे में मार्गदर्शन के साथ ही पूरी मदद करें ताकि युवा आसानी से आत्मनिर्भर बन सकें। तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री ने सभी प्राचार्यों को निर्देश दिये हैं कि वे अपनेे-अपने महाविद्यालयों में स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें। कॉलेज परिसर गन्दा पाये जाने पर प्राचार्य उत्तरदायी माने जायेंगे और उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जायेगी, उन्होंने अभियांत्रिकी महाविद्यालयों को प्रतिवर्ष अकादमिक ऑडिट करने, महाविद्यालय के सभी कक्षा-कक्ष व परिसरों में सी.सी.टी.वी. कैमरे लगवाने तथा उनकी कनेक्टिविटी राज्य स्तरीय संयुक्त सचिव तकनीकी शिक्षा के मोबाइल से करवाने के भी निर्देश दिए। डॉ गर्ग ने कहा कि सभी अभियांत्रिकी महाविद्यालयों के प्राचार्य शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ाने के लिए समय-समय पर आई.आई.टी. एवं एम.एन.आई.टी. के प्रोफेसर्स व्यायाख्यान आयोजित करें। अभियांत्रिकी महाविद्यालयों में विभिन्न नये पाठ्यक्रम जैसे-पेट्रोलियम, सोलर आदि विषयों पर अभियांत्रिकी महाविद्यालयों में उपलब्ध सर्वोत्तम सुविधाओं का उपयोग करते हुए छात्रों को लाभान्वित करें। तकनीकी शिक्षा राज्यमंत्री ने कहा कि सरकार हर हाथ को काम और हुनर से स्वरोजगार प्रदान करने को लेकर संकल्पबद्ध हैै। उन्होंने बैठक में प्रदेश के इंजीनियरिंग महाविद्यालयों के ऑडिट विषयक लेखे-जोखे, आलोच्य वित्तीय वर्ष के बजट, विभिन्न प्रस्तावों एवं अनुमोदन, अकादमिक व शैक्षणिक प्रबंधन के सुसंचालन आदि विषयों पर व्यापक विचार विमर्श कर संबंधित विभागाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। बैठक में सचिव तकनीकी शिक्षा श्री वैभव गालरिया, इंजीनियरिंग महाविद्यालयों के प्रधानाचार्य व प्रतिनिधि एवं बोर्ड ऑॅफ गवर्नर्स सदस्यगण एवं संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *